Category 1

Recent

Friday, September 18, 2020

 WHAT IS MORE IMPORTANT DIET OR EXERCISE FOR FAT LOSS

(वजन कम करने के लिए क्या जरूरी है डाइट या एक्सरसाइज)

Vajan kam karne ke liye kya jaruri hai diet ya exercise

क्या आप जानते ही कि फिट रहने के लिए क्या जरूरी है, डाइट या एक्सरसाइज? अगर नही जानते है तो पढ़िए यह आर्टिकल क्योकि यह पढने के बाद आपको यह मालूम पढ़ जायेगा, की फिट रहने या मसल्स बनाने और वजन कम करने के लिए डाइट और एक्सरसाइज इन दोनों में से क्या जरुरी है|

ज्यादा क्या जरूरी है, डाइट या एक्सरसाइज या दोनों की एक समान जरुरी है?

जब बात डाइट और एक्सरसाइज की आती है तो सबके सामने एक सामान्य सवाल आता है, की कितना प्रतिशत डाइट काम करती है, और कितना प्रतिशत एक्सरसाइज काम करती है|

मुझे यकीन है आपने यह  तो जरुर सुना होगा, की 80% डाइट और 20% एक्सरसाइज काम करती  है,चाहे आपको वजन कम करना हो या वजन बढ़ाना हो, या किसी भी प्रकार के फिटनेस के लक्ष्य को हासिल करने हो|

तो में यहाँ आपको बता देता हूँ कि एक्सरसाइज और डाइट दोनों में से क्या जरूरी है और कौन कितना प्रतिशत काम करता है |

WHAT IS MORE IMPORTANT DIET OR EXERCISE FOR FAT LOSS


देखिये हमें फिट और हेल्थी रहने के लिए या वजन कम करना हो या वजन बढ़ाना हो सभी के लिए डाइट और एक्सरसाइज दोनों जरुरी है और दोनों की एक समान काम करती है| डाइट और एक्सरसाइज दोनों का ही 100% होना चाहिए| और उसके साथ आपकी नींद भी अच्छी होनी चाहिये| तभी हमें अच्छे और बेहतर परिणाम मिलते है|

क्योकि सिर्फ एक्सरसाइज करके आप वजन कम या बढ़ा नही सकते है और ना ही सिर्फ डाइट करके वजन कम या बढ़ा नही सकते है |

मान लो की आपका लक्ष्य  वजन कम करना तो उसके लिए आपको नेगेटिव एनर्जी बैलेंस बनाना पड़ता है मतलब कैलोरी डेफिसिट (कैलोरी कम करना) करना पड़ता है|  

जिसको करने के आपको एक्सरसाइज और डाइट दोनों की जरूरत पड़ती है|  में आपको उदहारण के माध्यम से  समझाता हूँ|

WHAT IS MORE IMPORTANT DIET OR EXERCISE FOR FAT LOSS

photo by pixabay 

सिर्फ चार मिनट एक्सरसाइज करने से होगा वजन कम 

1 पौंड फैट के वजन में 3500 कैलोरी होती है|

अगर आपको एक हफ्ते में आधा किलो वजन कम करना है तो दिन में आपको 500 कैलोरी बर्न करनी पड़ेगी|  जो की सिर्फ एक्सरसाइज से मुश्किल है| इसके लिए, व्यायाम करने के साथ, कैलोरी की भी गणना करके, हम आहार के माध्यम से भी कैलोरी को कम करते हैं और एक नकारात्मक एनर्जी संतुलन बनाते हैं|

अब यह जान लेते है कि एक्सरसाइज से क्या होता है और डाइट से क्या होता है

एक्सरसाइज से क्या होता है, क्यों जरुरी है  

जब हम एक्सरसाइज करते है तो हमारी बॉडी एनर्जी यूज़ करती है  जिससे  कैलोरीज बर्न होती है चाहे कार्डियो करे या वेट ट्रेनिंग करे दोनों में कैलोरीज बर्न होती है|

लेकिन एक्सरसाइज करने से हमारे शरीर के मसल्स के टूट फूट (ब्रेकडाउन) भी होती है| एक्सरसाइज न्यूट्रीशन को सपोर्ट करती है|

डाइट से क्या होता है, क्यों जरुरी है|

एक्सरसाइज करने से जो मसल्स में जो टूट फूट होती है उसकी मरम्मत करने के लिए हमें न्यूट्रीशन की जरुरत पड़ती है| अच्छी गुणवत्ता की और सही मात्रा में   प्रोटीन फैट  विटामिन मिनरल की जरुरत होती है , जो हम अच्छे से प्लान किये गये डाइट प्लान से आराम से संभव है|


WHAT IS MORE IMPORTANT DIET OR EXERCISE FOR FAT LOSS

photo by pixabay

इसलिए डाइट और एक्सरसाइज दोनों में से कोई भी एक ज्यादा महत्वपूर्ण नही है| दोनों की अपनी अपनी अहमियत है,दोनों एक दुसरे के पूरक है| किसी भी फिटनेस प्रोग्राम के अच्छे परिणाम के लिए दोनों का ही होना जरुरी है| 

यह भी पढ़े :- एक्सरसाइज से बाद क्या खाए

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो शेयर जरुर करे और नीचे कमेंट करे| 

WHAT IS MORE IMPORTANT DIET OR EXERCISE FOR FAT LOSS

  WHAT IS MORE IMPORTANT DIET OR EXERCISE FOR FAT LOSS (वजन कम करने के लिए क्या जरूरी है डाइट या एक्सरसाइज) Vajan kam karne ke liye kya ...

Monday, September 14, 2020

 

Importance of water in Hindi

(पानी का महत्व हिंदी में)

पानी का महत्व हिंदी में (pani ka mahtv hindi me)  

नमस्कार दोस्तों फिट रहने के लिए पानी उतना ही जरुरी है जितना की एक्सरसाइज और अच्छी डाइट की जरुरत होती है| इन्सान के शरीर में लगभग 65 से 70% वाटर होता है| तो आज मैं आपको पानी के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारिया बताऊंगा जो है -

  1. पानी हमारे शरीर के लिए क्यों जरुरी है
  2. हमारे शरीर में पानी के क्या फंक्शन है
  3. बॉडी में पानी (वाटर) लोस कैसे होता है|
  4. अगर बॉडी को सही तरह से हाइड्रेट रखे तो तो क्या फायदे होते है|
  5. कितना पानी पीना चाहिए 

इस आर्टिकल में, मैं आपको ऊपर के इन सब बिन्दु (पॉइंट) की विस्तृत जानकारी दूंगा लेकिन इससे पहले यह जान लेते है कि

पानी शरीर में कहा कहा वितरित होता है  

पानी शरीर के दो द्रव कम्पार्टमेंट्स में वितरित होता है,  पहला है इंट्रासेल्युलर वाटर  (intracellular) जो की सेल्स के अन्दर  होता है, दूसरा होता है एक्स्ट्रासेल्युलर वाटर  (extracellular) जो की सेल्स के बाहर होता है|

Importance of water in Hindi (पानी का महत्व हिंदी में)


पानी हमारे शरीर के लिए क्यों जरुरी है

पानी किसी व्यक्ति के शरीर के वजन का 40 से 70% हिस्सा बनाता है, जो उम्र, लिंग और शरीर की संरचना पर निर्भर करता है|

पानी शरीर के हर एक सेल में मौजूद होता है|  एक्टिव मसल्स टिश्यू में सबसे अधिक (75%) पानी की मात्रा होती है जबकि अडिपोस टिश्यू में केवल 10 से 15% ही पानी होता है|  

यह भी जाने - इन कारणों से प्रोटीन खाना जरुरी है 

पानी हमारे शरीर के इन कार्यो के लिए जरुरी है

  •         पानी हमारे शरीर में न्युत्रिएन्त के ट्रांसपोर्टेशन की लिए जरुरी है|
  •         शरीर में होने वाली केमिकल रिएक्शन के लिए|
  •         सेल्स के  और सेल्स के बीच लुब्रीकेशनके लिए|
  •        शरीर के तापमान के रेगुलेशन के लिए|
  •         प्रोटीन, लिपिड, और ग्लाइकोजन के स्ट्रक्चर को मेन्टेन रखने के लिए|
  •         ब्लड के वॉल्यूम को मेन्टेन रखने के लिए

तो आप अभी समझ सकते है कि पानी हमारे शरीर के लिए कितना जरुरी है|

हमारे शरीर में पानी के क्या फंक्शन है

पानी एक सर्वव्यापी उल्लेखनीय पोषक तत्व है। यह जीवन के लिए आवश्यक है।

  •         न्यूट्रीएंट को ट्रांसपोर्ट करना
  •         शरीर में होने वाली केमिकल रिएक्शन के लिए विलायक का काम करना |
  •         सेल्स के  और सेल्स के बीच लुब्रीकेशनके लिए|
  •         शरीर के तापमान को रेगुलेट करना|
  •         प्रोटीन, लिपिड, और ग्लाइकोजन के स्ट्रक्चर को मेन्टेन रखना|
  •         ब्लड के वॉल्यूम को मेन्टेन रखना
  •         शरीर के वेस्ट मटिरिअल को यूरिन और मॉल के जरिये बाहर निकालने में मदद करना|

बॉडी में पानी (वाटर) लोस कैसे होता है|

पानी का लोस शरीर की चार तरीके से होता है

1) यूरिन (मूत्र) से

सबसे ज्यादा पानी हमारे शरीर से यूरिन के रूप बाहर निकलता है जिसमे कई सारे वेस्ट प्रोडक्ट होते है|

2) स्किन से

हमारी बॉडी की स्किन से भी पानी शरीर से बहार निकलता है| जब हमें पसीना होता है तो पसीने के रूप में पानी शरीर से बाहर निकल जाता है|

3) हवा में जल वाष्प के रूप में

जब हम बात करते है तो पानी की  कुछ ड्रोप्लेट्स जल वाष्प के रूप में वाटर लोस होता है| हवा में जल वाष्प के रूप में दिन भर में हम 250 से 350 ml डेली वाटर लोस होता है

4) मल से 

हमारे शरीर में मल से भी पानी का लोस होता है क्योकि पानी लगभग 70% मॉल सम्बन्धी पदार्थ का गठन करता है हमारी आंतो में | दिनभर में मल से लगभग 100 से 200ml पानी का  लोस होता है|

Importance of water in Hindi (पानी का महत्व हिंदी में)


अगर बॉडी को सही तरह से हाइड्रेट रखे तो तो क्या फायदे होते है|

  • ·        बॉडी के सही तरह से हाइड्रेट रहने से निम्न फायदे होते है
  •         एक्सरसाइज के दौरान हृदय गति में वृद्धि नियंत्रण कण्ट्रोल में रहती है
  •         शरीर के कोर और एक्सरसाइज में काम करने वाले मसल्स के तापमान में बढ़ोतरी नियंत्रण में रहती है
  •         बेहतर हाइड्रेशन से कार्डियक स्ट्रोक वॉल्यूम और कार्डियक आउटपुट में सुधार आता है|
  •         बेहतर हाइड्रेशन त्वचा के रक्त प्रवाह में सुधार आता है|
  •         एक्सरसाइज के दौरान रक्त की वॉल्यूम का बेहतर रखरखाव (मेंटेनेंस)
  •         एक्सरसाइज की परफॉरमेंस में सुधार आता है और एक्सरसाइज के दौरान मसल्स में खिंचाव (क्रेम्प्स) नही आते है|
  •         मेटाबोलिज्म बढ़ता है जिससे फैट लोस में भी मदद मिलती है|

तो आप देख सकते है की एक्सरसाइज करने वालो को और किसी को भी बेहतर हाइड्रेशन के कितने सारे मिलते है|

इन टिप्स से बढ़ाये अपना वजन 

कितना पानी पीना चाहिए 

हर किसी को जितना हो सके ज्यादा पानी पीना चाहिए| प्यास लगने का इंतज़ार नही करना चाहिए|  अगर आप ज्यादा पानी न पी पाए तो कम से कम  8 गिलास (2 लीटर)   पानी तो पुरे दिन में पानी ही चाहिए| बेहतर हाइड्रेशन के लिए इतना पानी जरुरी है|

हेल्थ और फिटनेस से जुडी और जानकारी के लिए सब्सक्राइब जरुर करे| अगर यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करे और दुसरो तक भी पहुचाये|   

धन्यवाद


 

 

 

 

Importance of water in Hindi (पानी का महत्व हिंदी में)

  Importance of water in Hindi (पानी का महत्व हिंदी में) पानी का महत्व हिंदी में (pani ka mahtv hindi me)   नमस्कार दोस्तों फिट रहने क...

Friday, September 11, 2020

 

प्रोटीन क्यों जरुरी है हमारे शरीर के लिए

WHY PROTEIN IS IMPORTANT FOR BODY

PROTEIN KYO JARURI HAI HAMARE SHARIR(BODY) KE LIYE

मुझे आशा है की आपको यह तो पता होगा की प्रोटीन एक मैक्रो न्यूट्रीएण्ट्स है| जो हमें फ़ूड से मिलता है और यह भी जानते है  कि मैक्रो न्यूट्रीएण्ट्स तीन होते है कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और फैट|

इस आर्टिकल में,  मै आपको बताने वाला हूँ कि प्रोटीन क्यों जरुरी है हमारे शरीर के लिए और यह हमारे शरीर के इसके क्या कार्य है| लेकिन इससे पहले यह जान लेते है कि प्रोटीन क्या है|

प्रोटीन क्या है

प्रोटीन कार्बन हाइड्रोजन और ऑक्सीजन और नाइट्रोजन से बना मैक्रो पोषक तत्व है| प्रोटीन एमिनो एसिड की लम्बी चैन होती है|  प्रोटीन शरीर में ब्रेक होकर एमिनो एसिड में कन्वर्ट हो जाता है| प्रोटीन एमिनो एसिड से बना होता है जो एक दुसरे से लम्बी चेन से जुड़े होते है|

प्रोटीन क्यों चाहिए हमारे शरीर को


प्रोटीन क्यों जरुरी है हमारे शरीर के लिए (WHY PROTEIN IS IMPORTANT FOR BODY)


प्रोटीन हमारे लिये बहुत जरुरी है प्रोटीन के बिना हम जिन्दा नही रह सकते है| प्रोटीन हमारे शरीर के सेल्स की मरम्मत और ग्रोथ के लिए जरुरी है| प्रोटीन के बिना हमारे शर्रीर के सेल्स की मरम्मत और ग्रोएथ संभव नही है| साथ ही प्रोटीन नए सेल्स बनाने, बेक्टीरिया से बचाने के लिए और हमारे इम्यून सिस्टम के लिए भी जरुरी है, जो हमें कई रोगों से दूर रखता है|

हमारे शरीर को कुल 20 एमिनो की जरूरत होती है|

कुछ एमिनो एसिड हमारी बॉडी खुद बनाती है और कुछ को हमारी बॉडी नही बना सकती है| जिनको हमारा शरीर बना नही सकता उन्हें हमें डाइट (खाने) से लेना ही पड़ता है| उनके बिना शरीर में प्रोटीन का सही से निर्माण नही हो पाता है|

यह भी पढ़े - वजन बढ़ाना है तो इन बांतो पर दे ध्यान 

प्रोटीन के कार्य

हमारे शरीर में प्रोटीन बहुत सारे काम करता है|

बॉडी के सेल्स की ग्रोथ और मरम्मत करना|

प्रोटीन हमारे शरीर के जितने भी सेल और टिश्यू होते है उनकी मरम्मत और ग्रोथ करने का काम करता है|

एंजाइम बनाने के लिए जरुरी

हमारी बॉडी में एंजाइम बनाने के लिए हमें प्रोटीन की जरुरत होती है| कुछ एंजाइम प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट से मिलाकर बनते है|

होर्मोन बनाना

हमारे शरीर के होर्मोन भी प्रोटीन के बने होते है| बहुत सारे होर्मोन प्रोटीन से बनते है, जैसे इन्सुलिन होर्मोन|  सिर्फ सेक्स होर्मोन फैट से बनते है| 

एनर्जी प्रदान करना   

प्रोटीन हमें एनर्जी भी देता है| जब हमारी डाइट में कार्बोहाइड्रेट कम होते है तो हमारा शरीर एनर्जी के लिए प्रोटीन का यूज़ करता है|

इम्युनिटी बढ़ाना

प्रोटीन एक इम्युनिटी बूस्टर है| प्रोटीन हमारी इम्युनिटी(रोग प्रतिरोधक शमता) को बढाता है| अगर डाइट में प्रोटीन कम होता है तो हमारी इम्युनिटी कम हो जाती है|

चार मिनट के वर्कआउट से वजन कम करे 

मसल्स कांट्रेकंशन

मसल्स फाइबर के सबसे छोटे यूनिट एक्टिन और मायोसिन को भी कांट्रेकंशन के लिए प्रोटीन की जरुरत होती है| एक्टिन और मायोसिन दोनों ही प्रोटीन से बने होते है|

मैकेनिकल सपोर्ट के लिए  

कोलेजन, एक प्रकार का प्रोटीन जो हड्डियों और जॉइंट में होता है जो हमें मैकेनिकल सपोर्ट देता है|    

नुट्रीएन्ट को ट्रांसपोर्ट करना

एक्सरसाइज के दौरान मायोग्लोबिन ऑक्सीजन को सेल्स तक लेकर जाता है| मायोग्लोबिन का ग्लोबिन एक प्रोटीन है|

प्रोटीन क्यों जरुरी है हमारे शरीर के लिए (WHY PROTEIN IS IMPORTANT FOR BODY)


मेटाबोलिज्म को बनाए रखना

प्रोटीन आसानी से नही पचता है प्रोटीन को पचाने के लिए बहुत साड़ी एनर्जी की जरुरत होती है जिससे हमारी body ज्यादा कैलोरीज बर्न करती है| प्रोटीन थर्मोजेनिक इफ़ेक्ट के जरिये बॉडी के मेटाबोलिज्म को बनाये रखता है|

तो इस प्रकार प्रोटीन हमारे शरीर के लिए कितना जरुरी है|

हेल्थ और फिटनेस से जुडी और जानकारी के लिए सब्सक्राइब जरुर करे| अगर यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करे और दुसरो तक भी पहुचाये|   

धन्यवाद 

दूसरी और पोस्ट 

फ्लेक्सिबिलिटी 

एनेरोबिक एक्सरसाइजेज 

मैक्रो पोषक तत्व 

प्रोटीन क्यों जरुरी है हमारे शरीर के लिए (WHY PROTEIN IS IMPORTANT FOR BODY)

  प्रोटीन क्यों जरुरी है हमारे शरीर के लिए WHY PROTEIN IS IMPORTANT FOR BODY PROTEIN KYO JARURI HAI HAMARE SHARIR(BODY) KE LIYE मुझे आ...

Monday, September 7, 2020

 

वजन कैसे बढ़ाये

How to gain weight in Hindi

 

Vajan kaise badhaye in hindi

दोस्तों अगर आपको भी वजन बढ़ाना है या मस्कुलर बॉडी बनानी है तो यह आर्टिकल (लेख) आपके लिए काफी मददगार साबित होने वाला है| 

वजन बढ़ाना हर किसी को मुश्किल लगता है| वजन बढ़ाने के लिए लोगो को काफी समस्याओ का सामना करना पड़ता है, खासकर जो पतले लोग होते है उन्हें वजन बढाने में काफी समस्याए आती है| लेकिन ये कोई बड़ी समस्या नही है|

Vajan kaise badhaye in hindi (How to gain weight in Hindi)

यह भी पढ़े - चार मिनट के एक्सरसाइज रूटीन से वजन कम करे  

आजकल के दौर में हर किसी को फिट रहना बहुत जरुरी है| भले ही आपका वजन कम हो या ज्यादा| आपको अपना वजन को मेन्टेन करना जरुरी है|

आज का ये आर्टिकल उनके लिए जो अंडरवेट है|  ज्यादा वजन कम होना भी एक बड़ी प्रॉब्लम है| इसकें लिए ही आज में आपकी मदद के लिए  यह आर्टिकल लेकर आया हूँ|

तो चलिए मैं आपको बताता हूँ कि वजन कैसे बढ़ाये, वजन बढ़ाने के तरीके क्या है|

रोज एक्सरसाइज करे

अभी आप सोच रहें होंगे की सब यही बताते है, लेकिन एक्सरसाइज जरुरी है चाहे आपको वजन बढ़ाना हो या वजन कम करना हो|  

बिना एक्सरसाइज के आप अपना वजन नही बढ़ा सकते है| अगर आप बढ़ाते भी है तो वो सिर्फ फैट बढ़ता है, ओवर फैट जो बाद में जाकर कई सारी बीमारीयों का कारण बनता है इसलिए आपको एक्सरसाइज करना जरुरी है|

Vajan kaise badhaye in hindi (How to gain weight in Hindi)

एक्सरसाइज में आप स्ट्रेंथ ट्रेनिंग वाली एक्सरसाइज करे|

स्ट्रेंथ ट्रेनिंग वाली एक्सरसाइज करने से टेस्टोस्टेरोन होर्मोन लेवल भी बढ़ते है जो की मसल्स बनाने में मदद करते है|

एक्सरसाइज करने से शरीर में एनर्जी लेवल बढ़ते है और एक्सरसाइज करने से हमें भूख भी अच्छे से लगती है क्योकि एक्सरसाइज करने से हमारी बॉडी में घ्रेलिन होर्मोन के लेवल बढ़ जाते है|

खाने पर दे खास ध्यान

वजन बढ़ाने के लिए एक्सरसाइज के साथ साथ  पोष्टिक खाने पर भी ध्यान देना जरुरी है| पोष्टिक  खाना वजन बढ़ाने में काफी अहम् भूमिका निभाता है|  जैसे हरी सब्जिया, दूध,मछली,अंडा आदि

खाने में मुख्यतः आप इन बातो का ध्यान रखे|

कैलोरीज का सेवन बढ़ाये

वजन बढ़ाने के लिए जरुरी है की आप अपनी कैलोरीज  की सेवन बढ़ाये| आपको दिन की जरुरत की कैलोरीज से ज्यादा कैलोरीज की सेवन करना पड़ेगा| मेरा सुझाव यह रहेगा की आप कम से कम 300 कैलोरीज ज्यादा का सेवन करे| जिससे आपका वजन बढ़ने के साथ फैट ज्यादा नही  बढेगा|

Vajan kaise badhaye in hindi (How to gain weight in Hindi)

पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन ले

आपको यह तो पता ही होगा कि प्रोटीन हमारे शरीर के लिए कितना जरुरी है| मसल्स की ग्रोथ और रिपेयर के लिए प्रोटीन जरुरी है| मसल्स मॉस और वजन बढ़ाने के लिए डाइट में प्रोटीन का  पर्याप्त मात्रा में सेवन करना ही चाहिए, यह बेहद जरुरी है|

प्रोटीन के सेवन के लिए आप पनीर, दूध, दही, अंडे, चिकन,मछली आदि का उपयोग कर सकते है| ये सभी प्रथम श्रेणी (फर्स्ट क्लास) के प्रोटीन है, (फर्स्ट क्लास) जिनसे मसल्स की ग्रोथ अच्छे से होती है|

फ्रूट्स का भी सेवन करे  

Vajan kaise badhaye in hindi (How to gain weight in Hindi)


जी हा, वजन बढ़ाने के लिए आपको फ्रूट्स का भी सेवन करना पड़ेगा क्योकि फ्रूट्स में होते है, बहुत सारे विटामिन्स और मिनरल्स होते जो वजन बढ़ाने में मदद करते है| विटामिन और मिनरल्स एनर्जी बनाने में भी मदद करते है|

कार्बोहाइड्रेट की मात्रा थोड़ी बढ़ा दे|

वजन बढ़ने के लिए पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन लेने से साथ कार्बोहाइड्रेट की मात्रा भी बढ़ा दे|, क्योकि अगर हम कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बढ़ाएंगे नही तो प्रोटीन का यूज़ एनर्जी के लिए होगा जिससे प्रोटीन अपना काम सही से नहीं कर पायेगा और वजन बढ़ने में समस्या होगी|

समय समय पर खाते रहे 

वजन बढ़ाते समय इस बात पर भी खास ध्यान दे आपको समय समय पर खाते रहना है| इन में सिर्फ दो या तीन मील खाने से बात नही बनेगी| आप दिन में कम से कम चार मील तो जरुर करे (चार बार भोजन अवश्य करे)|  जिससे आपको कैलोरीज भी बढ़ जाएगी तो आपको वजन बढ़ाने में काफी मदद मिलेगी| 

जंक फ़ूड को खाने से बचे

बहत सारे लोग हमेशा यह गलती करते है कि वो ज्यादा कैलोरीज लेने के चक्कर में जंक फ़ूड का सेवन करते है जिससे उनका वजन के साथ साथ फैट भी ज्यादा बढ़ जाता है| इसलिए जब आप वजन बढ़ा रहे होते है तब जंक फ़ूड का सेवन करने से बचे|  

पानी पर्याप्त मात्रा में पिये

Vajan kaise badhaye in hindi (How to gain weight in Hindi)

हर कोई जानता है की पानी हमारे शरीर के लिए जरूरी है, पानी शरीर की गंदगी  को बाहर निकालने में सहायता करता है और वजन बढ़ाने में भी मदद करता है| 

नींद पर दे ध्यान

Vajan kaise badhaye in hindi (How to gain weight in Hindi)


वजन बढ़ाने के लिए आपको अपने सोने के समय का ध्यान देना होगा| आपको कम से कम 8 घंटे की नींद लेनी पड़ेगी, यह बहुत जरुरी है| आजकल लोगो को नींद की काफी समस्याए है|

इसलिए आप वजन बढ़ाने के लिए समय पर जाये और समय से जागे जिससे आप शरीर में तंदरुस्ती महसूस करेंगे और जिससे आपको वजन बढ़ाने में मदद मिलेगी|

स्ट्रेस से बचे

Vajan kaise badhaye in hindi (How to gain weight in Hindi)


ऊपर दी गयी बांतो  के साथ साथ इन आपको  इस बात का भी ध्यान रखना है कि आपको बिना वजह के स्ट्रेस नही लेना है| स्ट्रेस लेने से हमारी बॉडी केटाबोलिज्म में जाती है जिससे मसल्स लोस होता है| अगर बॉडी में मसल्स लोस होगा तो फिर वजन कैसे बढ़ पायेगा| इसलिए इस बात पर भी ध्यान दे की बिना वजह के आपको स्ट्रेस नही लेना है| 

मुझे आशा है कि आप इन बातो को ध्यान में रखेंगे, तो आपका वजन जरुर बढ़ जायेगा|  

हेल्थ और फिटनेस से जुडी और जानकारी के लिए सब्सक्राइब जरुर करे| अगर यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करे और दुसरो तक भी पहुचाये|    

 सभी फोटो pixabay से लिए गए है 

 यह भी पढ़े - ये चीजे खाने से होगा वजन कम 

 धन्यवाद 

 

 

 

Vajan kaise badhaye in hindi (How to gain weight in Hindi)

  वजन कैसे बढ़ाये How to gain weight in Hindi   Vajan kaise badhaye in hindi दोस्तों अगर आपको भी वजन बढ़ाना है या मस्कुलर बॉडी बनान...

Thursday, September 3, 2020

3 TYPES OF DEADLIFT AND ITS BENEFITS

तीन प्रकार की डेडलिफ्ट  और उनके लाभ

डेडलिफ्ट एक बहुत ही बढ़िया एक्सरसाइज  है| यह एक पॉवर कंपाउंड मूवमेंट क्योकि इसमें आपकी अपर (upper) और लोअर(lower) body दोनों का यूज़ होता है| शरीर की ताकत बढ़ाने के लिए यह काफी अच्छी एक्सरसाइज है| इस एक्सरसाइज को करने से लेग, बैक, ट्रेपीज़ियस, ग्लुट्स और कोर (abdominal) के मसल्स काफी मजबूत (strong) बनते है|

डेडलिफ्ट एक्सरसाइज में एरेक्टर स्पाइने (erector spinae), मल्टीफिड्स, ट्रेपीज़ियस, क्वाड्रीसेप्स (quadriceps), ग्लुट्स और कोर (core) के मसल्स वर्क करते है, तो आप देख सकते है की इसमें आपकी बॉडी के कितने सारे मसल्स वर्क करते है|

अंग्रेजी में पढ़े नीचे

अब बात करते है डेडलिफ्ट के तीन टाइप की|

डेडलिफ्ट की तीन टाइप कौनसी है और इन में क्या फर्क है -  

1) कन्वेंशनल डेडलिफ्ट

2) सूमो डेडलिफ्ट

3) स्टिफ लेग डेडलिफ्ट

1) कन्वेंशनल डेडलिफ्ट - इसे आम भाषा में रेगुलर डेडलिफ्ट भी कहते है| बाकी टाइप की  डेडलिफ्ट से इसमें यह फर्क है की इसमें स्टांस (दोनों लेग के बीच की दुरी) शोल्डर विड्थ (शोल्ल्डर की चोडाई जितनी) जितना लिया जाता है  

TYPES OF DEADLIFT AND BENEFITS

photo by pixabay

यह भी पढ़े :- एक्सरसाइज से बाद क्या खाए

2) सूमो डेडलिफ्ट – सूमो डेडलिफ्ट और कन्वेंशनल डेडलिफ्ट में ज्यादा कुछ फर्क नही है दोनों में सिर्फ स्टांस(दोनों लेग के बीच की दुरी) का ही फर्क है| सुमो डेडलिफ्ट में स्टांस काफी ज्यादा लिया जाता है (शोल्डर विड्थ से भी ज्यादा) | सूमो डेडलिफ्ट उनके लिए ज्यादा आरामदायक (comfortable) हो सकती है, जिनकी हाइट ज्यादा होती है |

TYPES OF DEADLIFT AND BENEFITS

photo - beardoo_lovr

कन्वेंशनल डेडलिफ्ट और सूमो डेडलिफ्ट दोनों में मेन टारगेट मसल्स बैक के एरेक्टर स्पाइने (erector spinae) और मल्टीफीड्स (multifidus) होते है और असिस्ट मसल्स क्वाड्रीसेप्स (quadriceps), ग्लूटीयस मेक्सिमस(gluteas maximus), ट्रेपीज़ियस मसल्स होते है| इन दोनों टाइप की डेडलिफ्ट में मूवमेंट हिप जॉइंट और नी (घुटने) जॉइंट दोनों में होती है|

3) स्टिफ लेग डेडलिफ्ट - यह डेडलिफ्ट कन्वेंशनल और सूमो डेडलिफ्ट से थोड़ी अलग है  इस डेडलिफ्ट में आपका स्टांस हिप विड्थ होता है और इसमें नी (घुटना) स्टिफ रहता है| नी जॉइंट में कोई मूवमेंट नही होती है| इस एक्सरसाइज में मूवमेंट सिर्फ हिप जॉइंट में होता है| इसमें आपका टारगेट मसल्स ग्लूटीयस मेक्सिमस (gluteas maximus) होता है|

TYPES OF DEADLIFT AND BENEFITS
photo - anastase maragos

बहुत से लोग यह मानते है की स्टिफ लेग डेडलिफ्ट हेम्सस्ट्रिंग (hamstring) के लिए होती है पर ऐसा नही है| हेम्सस्ट्रिंग (hamstring) मसल्स इसमें असिस्ट मसल्स होता है क्योकि जो मूवमेंट होता है हिप एक्सटेंशन, जो की काम है ग्लूटीयस मेक्सिमस (gluteas maximus) का इसलिए यह एक्सरसाइज ग्लुट्स के लिए है न की हेम्सस्ट्रिंग (hamstring) के लिए| हेम्सस्ट्रिंग (hamstring) इसमें ट्रेन होता है लेकिन इतना नही होता है जितना ग्लूटीयस मेक्सिमस| 

डेडलिफ्ट के लाभ

1)  ताकत बढती है

डेडलिफ्ट एक्सरसाइज में हमारी बॉडी के बहुत सारे मसल्स काम करते है जिससे इनकी स्ट्रेंथ बढती है| ताकत(स्ट्रेंथ) बढ़ाने के लिए यह बहुत ही बढ़िया एक्सरसाइज है|

2) कमर दर्द को कम करती है

डेडलिफ्ट एक्सरसाइज करने से लोअर बेक के मसल्स मजबूत होते है जिससे लोअर बेक के दर्द (कमर दर्द) कम होता है |

3) बॉडी के पोस्चर में सुधार

डेडलिफ्ट करने से बैक(पीठ), पैर (थाई) और कोर (एब्स) के मसल्स मजबूत बनते है जिन पर हमारी स्थिरता निर्भर करती है, तो इन मसल्स के मबजूत होने से हमारा पोस्चर में सुधार आता है|

4) फैट लोस होता है

डेडलिफ्ट एक्सरसाइज को करने के लिए हमें ज्यादा एनर्जी की जरुरत होती है, तो इस एक्सरसाइज को करने से कैलोरीज भी ज्यादा बर्न होगी है| इसलिए यह फैट और वेट लोस के लिए भी लाभदायक एक्सरसाइज है|

5) रोजमर्रा की जिन्दगी में लाभदायक

डेडलिफ्ट रोजमर्रा की जिन्दगी में ज्यादा उपयोग होने वाली एक्सरसाइज है| जब हम जमीन पर पड़ी हुयी किसी चीज उठाते है तो एक तरह से डेडलिफ्ट ही कर रहे होते है| तो डेडलिफ्ट एक्सरसाइज को करने से रोजमर्रा की जिन्दगी आने वाले ऐसे कामो को आसानी से किया जा सकता है|

यह भी पढ़े :- what is bmr 

how to calculate bmr 

flexibility


3TYPES OF DEADLIFTS AND ITS BENEFITS

 

The deadlift is an awesome exercise. This is a power compound movement because it uses both your upper and lower body. It is a very good exercise to increase the strength of the body. By doing this exercise, the muscles of the leg, back, trapezius gluteus, and the core have become very strong.

In deadlift exercises, working muscles are erector spinae, multifidus, trapezius, quadriceps, glutes and core muscles,

Now let's talk about three types of deadlifts and what is the difference between them.

Here are three types of deadlifts

1) Conventional Deadlift

2) Sumo Deadlift

3) Stiff leg deadlift

1) Conventional Deadlift - It is also called regular Deadlift. In this type of deadlift, the stance (the distance between the two legs) is taken as much as the width of the shoulder.

TYPES OF DEADLIFT AND BENEFITS


Read this too:- What to eat after exercise

2) Sumo Deadlift - There is not much difference between Sumo Deadlift and Conventional Deadlift. There is only a difference of stance (the distance between the two legs). In Sumo deadlifts, the stance (the distance between the two legs) is taken more than the width of the shoulder. Sumo deadlifts may be more comfortable for those who are tall in height.

In this both (deadlifts and sumo) types of deadlift main target muscle are erector spinae and multifidus of the back muscle group.

quadriceps, gluteus maximus, trapezius, and core muscles are assist muscle in this type of deadlifts.  

In both these types of deadlifts, the movement occurs is in the hip and knee joints.

3) Stiff leg deadlift - This deadlift is slightly different from the conventional and sumo deadlift. In this deadlift, your stance (the distance between the two legs) is hip-width.

TYPES OF DEADLIFT AND BENEFITS


and In this deadlift, the movement occurs is only in the hip joint. There is no movement in the knee joint and the target muscle is gluteus maximus.

Many people believe that stiff leg deadlift is for hamstring, but it is not so. The hamstring muscles is assist the muscles because the movement is hip extension, which is the function of gluteus maximus. so it is for gluteus maximus, not for the hamstring. The hamstring trains in it but not as much as gluteus maximus.

Benefits of deadlift

1) improve strength

In deadlift exercise, many muscles of our body work, This is a great exercise to increase strength.

2) Reduce lower back pain

By exercising the deadlift, the muscles of the lower back are strengthened which reduces lower back pain.

3) Improve body posture

Deadlift strengthens the muscles of the back, legs, and core, on which our stability depends, so by strengthening these muscles we can improve our posture.

4) Fat Loss

Deadlift exercise is a power movement due to which it burns more calories so it is a beneficial exercise for fat and weight loss.

5) beneficial in day to day life

Deadlifts are the most commonly used exercises in everyday life. When we pick up something lying on the ground, we are doing deadlifts in a way. So by doing deadlift exercises, such tasks of day to day life can be made easier.

read this too:- what is bmr 

If you liked this article do like and share it with your friend.


TYPES OF DEADLIFT AND BENEFITS

3 TYPES OF DEADLIFT AND ITS BENEFITS तीन प्रकार की डेडलिफ्ट   और उनके लाभ डेडलिफ्ट एक बहुत ही बढ़िया एक्सरसाइज   है| यह एक पॉवर कंपाउं...

 

BEARDOOFITNESS- LIVE FIT LIVE HEALTHY © 2015 - Blogger Templates Designed by Templateism.com, Plugins By MyBloggerLab.com