Tuesday, July 14, 2020

What is flexibility

Flexibility (फ्लेक्सिबिलिटी )


फ्लेक्सिबिलिटी किसी जॉइंट के आस –पास की रेंज ऑफ़ मोशन को कहते है| इसका मतलब यह है की कोई जॉइंट के आस-पास के अंगो (लिगामेंट, मसल्स, जॉइंट कैप्सूल आदि) को बिना नुक्सान पहुचाये कितना मोवमेंट कर सकता है|  

जॉइंट की फ्लेक्सिबिटी उसके आस-पास के अंगो और टिश्यू के एक्सेटेंसिबिलिटी ( तनने की क्षमता ) और इलास्टिसिटी (तनने या सिकुड़ने के बाद वापिस अपनी अवस्था में आने की क्षमता) पर निर्भर करती है|

Ø        5 कारक जो फ्लेक्सिबिलिटी को प्रभावित करते है -

1) उम्र  :- जैसे जैसे उम्र बढती है वैसे वैसे फ्लेक्सिबिलिटी भी कम होती जाती है और हमारी मूवमेंट की रेंज भी कम होती जाती है | अगर हम फिजिकली एक्टिव रहे तो फ्लेक्सिबिलिटी के कम होने को गति (speed) कम किया जा सकता है | क्योकि जैसे जैसे हमारी उम्र बढती जाती है, हमारी अंगो की इलास्टिसिटी और एक्सेटेंसिबिलिटी भी कम होती जाती है|

2) लिंग :- महिलाएं पुरुषो के मुकाबले ज्यादा फ्लेक्सिबल होती है | हालाँकि एक अच्छे सही तरीके से डिजाइन किये गये ट्रेनिंग प्रोग्राम (वेट ट्रेनिंग and स्ट्रेचिंग) से पुरुष और महिला दोनों की फ्लेक्सिबिलिटी को बढाया जा सकता है|

3) एक्टिविटी (सक्रियता) :- जो लोग रेगुलर एक्सरसाइज करते है, उनकी फ्लेक्सिबिलिटी ज्यादा होती है, उनके मुकाबले जो लोग एक्सरसाइज नही करते है|

4) टिश्यू तापमान (temperature) :- मसल  तापमान (temperature) में बदलाव होने से रेंज ऑफ मोशन में 20% का चेंज ( कम या ज्यादा हो सकती है ) आ सकता है| इसलिए हमेशा एक्सरसाइज से पहले वार्मअप करना चाहिए|

5) चोट :-  चोटिल टिश्यू के कारण भी आपकी रेंज ऑफ मोशन प्रभावित होती है | अक्सर चोट के कारण आप मूवमेंट सही से नही कर पाते है|

फ्लेक्सिबिलिटी पुरे शरीर से सम्बंधित नही होती है यह जॉइंट टू जॉइंट स्पेसिफिक (specific) होती है | जिसका मतलब है एक किसी जॉइंट की फ्लेक्सिबिलिटी कम होगी और किसी की ज्यादा | किसी एक जॉइंट की फ्लेक्सिबिलिटी ज्यादा होने का मतलब यह नही है की दुसरे जॉइंट भी उतनी ही फ्लेक्सिबिलिटी होगी | 

 फ्लेक्सिबिलिटी के प्रकार :-

1) डायनैमिक फ्लेक्सिबिलिटी

2) स्टेटिक एक्टिव फ्लेक्सिबिलिटी

3) स्टेटिक पैसिव फ्लेक्सिबिलिटी 

अंग्रेजी में पढ़े नीचे 

यह भी पढ़े -  

how to calculate BMR

what is bmr


                                                                Flexibility

 Flexibility refers to the range of motion around a joint. This means how much a joint can move without causing damage to the surrounding tissue(Ligament, muscles, joint capsules etc.)

Flexibility of a joint depends on the extensibility (tensile capacity) and elasticity (the ability to return to its position after stretching or shrinking) of the surrounding organs and tissue.

Ø         5 factors that affect flexibility

 1) Age: - As age increases, the flexibility also decreases and the range of our movement also decreases.  If we are physically active, then the loss of flexibility can be reduced.  Because as our age increases, the elasticity and extensibility of our organs also decreases.

 2) Gender: - Women are more flexible than men.  However, a good properly designed training program (weight training and stretching) can increase the flexibility of both men and women.

 3) Activity: - People who do regular exercise have more flexibility, compared to those who do not exercise.

 4) Tissue temperature: - A change of temp temperature may cause a change (more or less) of 20% in range of motion.  So one should always warm up before exercise.

 5) Injury: - Due to the injured tissue, your range of motion is also affected.  Often you are unable to do the movement correctly due to injury.

Flexibility is not related to the whole body, it is joint to joint specific.  Which means one joint will have less flexibility and more than another.  Having more flexibility of one joint does not mean that other joints will have the same flexibility.

   Types of Flexibility: -

 1) Dynamic Flexibility

 2) Static Active Flexibility

 3) Static Passive Flexibility

read this too - 

what is bmr

how to calculate BMR


About the Author

BEARDOO LOVR

Author & Editor

Has laoreet percipitur ad. Vide interesset in mei, no his legimus verterem. Et nostrum imperdiet appellantur usu, mnesarchum referrentur id vim.

 

BEARDOOFITNESS © 2015 - Blogger Templates Designed by Templateism.com, Plugins By MyBloggerLab.com